हाई कोलेस्ट्रॉल है तो कभी भी इस तेल में खाना न बनाएं, वर्ना होगा सेहत को नुकसान

221

कोलेस्ट्रॉल को लिपिड या रक्त वसा भी कहा जाता है। कोलेस्ट्रॉल रक्त में पाया जाने वाला एक प्रकार का मोम है, जो कोशिका झिल्ली के निर्माण में मदद करता है। कोलेस्ट्रॉल दो प्रकार का होता है – अच्छा और बुरा, जिसे एलडीएल और एचडीएल (अनहेल्दी कुकिंग ऑयल) भी कहा जाता है।

स्वस्थ ऊतकों के निर्माण और रखरखाव के लिए आपके शरीर को अच्छे कोलेस्ट्रॉल की आवश्यकता होती है, लेकिन रक्त में खराब कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ने से वसा जमा हो सकती है, जिससे रक्त प्रवाह बढ़ता है और दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए हार्ट अटैक (Unhealthy Cooking Oil) के खतरे को कम करने के लिए दोनों के बीच संतुलन बनाए रखना बहुत जरूरी है।

विशेषज्ञों का कहना है कि उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर से रक्त वाहिकाओं में प्लाक का निर्माण होता है, जिससे स्ट्रोक और दिल के दौरे का खतरा बढ़ जाता है। उच्च कोलेस्ट्रॉल खराब आहार, अत्यधिक शराब का सेवन, धूम्रपान और व्यायाम की कमी से बढ़ जाता है।

विशेषज्ञों के अनुसार, कुछ आहार परिवर्तन जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं। यहां हम पांच प्रकार के तेलों के बारे में जानेंगे, जो आपके खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा सकते हैं। यदि आप उच्च कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित हैं, तो आपको इन तेलों से बचना चाहिए।

फैट कैसे बढ़ाता है कोलेस्ट्रॉल का खतरा

वसा सबसे महत्वपूर्ण मैक्रोन्यूट्रिएंट्स में से एक है जो कोलेस्ट्रॉल के प्रदर्शन को प्रभावित करता है। कोलेस्ट्रॉल की तरह, वसा भी दो प्रकार की होती है, अच्छी और बुरी। संतृप्त का अर्थ है संतृप्त और असंतृप्त का अर्थ है संतृप्त और असंतृप्त।

सैचुरेटेड फैट दिल के लिए हानिकारक होते हैं। असंतृप्त वसा स्वस्थ हृदय और अच्छे बॉडी मास इंडेक्स से जुड़े होते हैं। तो अपने कोलेस्ट्रॉल के प्रबंधन में पहला कदम सही खाना पकाने के तेल का चयन करना है।

खाना पकाने के लिए कभी भी इन तेलों का प्रयोग न करें

हार्वर्ड हेल्थ का कहना है कि उच्च कोलेस्ट्रॉल वाले लोगों को नारियल तेल, नमकीन मक्खन, आइसक्रीम और रेड मीट से बचना चाहिए। इसके अलावा अखरोट का तेल, अलसी का तेल, मछली और शैवाल का तेल भी संतृप्त वसा से भरपूर होता है। इसलिए हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या वाले लोगों को इन तेलों के सेवन से बचना चाहिए।

पामतेल हानिकारक (Palm Oil Is Harmful)

द जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, पाम तेल कोलेस्ट्रॉल के लिए सबसे खराब तेलों में से एक है।
संतृप्त वसा का उच्च स्तर खराब लिपिड या कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा सकता है।
कई अध्ययनों में यह भी बताया गया है कि ताड़ के तेल का रक्त लिपिड पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है।

300 ग्राम से अधिक कोलेस्ट्रॉल का सेवन न करें

जानकारों के मुताबिक अगर आप स्वस्थ हैं तो आपको रोजाना 300 ग्राम से ज्यादा कोलेस्ट्रॉल का सेवन नहीं करना चाहिए।
यदि आपको कोरोनरी हृदय रोग है या आपका एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का स्तर 100 मिलीग्राम / डीएल से अधिक है,
अपने कोलेस्ट्रॉल का सेवन प्रतिदिन 200 मिलीग्राम से कम रखें।

कोलेस्ट्रॉल के मरीजों के लिए कौन सा तेल सबसे अच्छा है

उच्च कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित लोगों के लिए ताड़ का तेल और मक्खन का तेल बेहद हानिकारक होता है।
इसके बजाय, आप खाना पकाने के लिए अलसी, सरसों और सूरजमुखी के तेल का उपयोग कर सकते हैं।

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार, 20 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को हर साल अपने कोलेस्ट्रॉल के स्तर की नियमित जांच और निगरानी करानी चाहिए।

(अस्वीकरण : हम इस लेख में निर्धारित किसी भी कानून, प्रक्रिया और दावों का समर्थन नहीं करते हैं।
उन्हें केवल सलाह के रूप में लिया जाना चाहिए। ऐसे किसी भी उपचार/दवा/आहार को लागू करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।)

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.