सावन में बेलपत्र का करें ये चमत्कारी उपाय, हर मनोकामना पूरी करेंगे महादेव

1,104

यह तो आपको भी पता होगा कि सावन का महिना चल रहा है और इस माह से बेलपत्र का बेहद ही गहरा संबंध है। बताते चलें कि भगवान शिव को बेलपत्र काफी पसंद है यही वजह है कि सावन में माह में सभी शिव भक्त बेलपत्र से शिवजी की पूजा करते हैं। सावन माह की बात करें तो इस माह में शिवजी को बेलपत्र अर्पित किए जाएं तो वो काफी प्रसन्न होते हैं और जिस चीज की कामना करते हैं वो इच्छा भी महादेव पूरी करते हैं।
ये हम नहीं कह रहे हैं बल्कि शास्त्रों में भी इसका उल्लेख किया गया है। कहा गया है कि भगवान शिव के पूजन में बेलपत्र अर्पित करने से वो बेहद जल्द प्रसन्न हो जाते हैं। कहा जाता है कि शिव की उपासना बिना बेलपत्र के पूरी नहीं होती, अगर आप भी देवों के देव महादेव की विशेष कृपा पाना चाहते हैं तो सावन मास में बेलपत्र को ऐसे अर्पित करें।

बेलपत्र का महत्व

सबसे पहले तो ये जानना जरूरी है कि बेल के पेड़ की पत्तियों को ही बेलपत्र कहा जाता है और इनमें उन पत्तियों को भगवान शिव को अर्पित किया जाता है जो 3 पत्तियां जुड़ी होती हैं ऐसे पत्तियों को एक ही पत्ती माना जाता है।

अब यह भी जान लें कि शिवलिंग पर बेलपत्र अर्पित करते समय इन बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए

loading...

सबसे पहली बात ये ध्यान में रखें कि एक बेलपत्र में तीन पत्तियां होनी चाहिए। दूसरी चीज ये होनी चाहिए कि ये पत्तियां कहीं से भी कटी या टूटी हुई या फिर उसमें छिद्र नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा आप जब भगवान शिव को बेलपत्र अर्पित कर रहे हों तो चिकनी ओर से नहीं अर्पित करें। बता दें कि एक ही बेलपत्र को जल से धोकर बार-बार भी चढ़ाया जा सकता है।

बेलपत्र के उपाय
दरिद्रता का अंत

बेलपत्र के वृक्ष को श्री वृक्ष भी कहा जाता है। बेलपत्र का पूजन पाप व दरिद्रता का अंत कर वैभवशाली बनाने वाला माना गया है। घर में बेल पत्र लगाने से देवी महालक्ष्मी बहुत प्रसन्न होती हैं। इन पत्तों को लक्ष्मी का रूप माना जाता है। इन्हें अपने पास रखने से कभी धन-दौलत का अभाव नहीं होता।

शीघ्र होगा विवाह
108 बेलपत्र लें और हर बेलपत्र पर चन्दन से ‘राम’ लिखें । ‘ॐ नमः शिवाय’ कहते हुए बेलपत्र को शिवलिंग पर चढ़ाते जाएं। सारे बेल पत्र चढ़ाने के बाद शिव जी से शीघ्र विवाह की प्रार्थना करें।

गंभीर बीमारियों से छुटकारा

शिव जी का प्रिय बेलपत्र गंभीर बीमारियों से भी आपको छुटकारा दिला सकता है। जी हां इसके लिए आपको 108 बेलपत्र लें और एक पात्र में चन्दन का इत्र भी लें अब एक-एक बेलपत्र चन्दन में डुबाते जाएं और शिवलिंग पर चढ़ाते जाएं। हर बेलपत्र के साथ ‘ॐ हौं जूं सः’ का जाप करते रहें। मंत्र जाप के बाद जल्दी स्वस्थ होने की प्रार्थना करें।

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Comments are closed.