Ads

सर्दी और खांसी से बचना है तो ज़रूर पिएं ये चाय, जानिए क्या क्या डालना चाहिए इस चाय में

889

सर्दी और खांसी से बचाव के लिए जेठी शहद, अदरक और दालचीनी की चाय आवश्यक है ओर बहुत उपयोगी रही है

सर्दी शुरू हो गई है। इस तरह की स्थितियों से मौसमी बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है। इसलिए हमें मौसम के हिसाब से अपनी दिनचर्या में कुछ बदलाव करने होंगे। आप आयुर्वेद की मदद से स्वस्थ रह सकते हैं। आयुर्वेद में, ‘ऋतुचक्र’ का उल्लेख है।

‘ऋतु’ का अर्थ है ‘ऋतु’ और ‘चार्य’ का अर्थ है जीवनशैली और आहार संबंधी नियम। आयुर्वेद में 6 ऋतुओं के लिए विभिन्न प्रथाओं का वर्णन है। ठंड में इसका पालन करके हम कई बीमारियों से खुद को बचा सकते हैं।

एक हर्बल उत्पाद कितना प्रभावी है?
आहार विशेषज्ञ और भोजन विशेषज्ञ डॉ। निधि का कहना है कि हर्बल उत्पाद ठंड में बहुत प्रभावी होते हैं, लेकिन इसे हमेशा एक गाइड के रूप में लिया जाना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि आप अक्सर घर पर बैठकर इसका अत्यधिक उपयोग करते हैं जो आपके स्वास्थ्य के लिए बुरा हो सकता है। दैनिक कसरत, व्यायाम या योग करते हुए हर्बल उत्पाद लें। ठंड में, जेटी शहद, अदरक, या दालचीनी चाय पीना चाहिए। यह शरीर को गर्म करता है और सर्दी-खांसी को पकड़ने की संभावना को कम करता है।
ये 6 हर्बल उत्पाद आपको ठंड में फिट और ठीक रहने में मदद करेंगे

loading...

1-जेठी शहद :-
इसके पाउडर को शहद में मिलाकर चाटा जा सकता है। चाय और शराब बनाने में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। जेटी शहद की जड़ों को पानी में उबालकर पीना चाहिए। यह गले में खराश से राहत देता है। रजोनिवृत्ति, त्वचा और हृदय की समस्याएं नहीं होती हैं।

2- अदरक :-
चाय में इस्तेमाल किया जा सकता है। सुबह खाली पेट दो या तीन चुटकी गर्म पानी पियें। सब्जियों और दूध में डूबा जा सकता है। यह गले को भी बेहतर बनाता है।

३- तमालपात्र :-
इसे उबालकर पीना चाहिए। इसे सब्जियों में डुबोया जा सकता है। यह ट्राइग्लिसराइड्स को नियंत्रित करता है।

4- दालचीनी :-
आप इसे चाय और दूध में डुबोकर पी सकते हैं। आप इसे केवल दालचीनी को उबालकर या उसके पानी में शहद मिलाकर पी सकते हैं। सलाद और ग्रेवी वाली सब्जियों में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। यह झुर्रियों का कारण नहीं बनता है, यह वजन कम करता है। दिल की समस्याएं नहीं होती हैं। गला अच्छा रहता है। हालांकि, इसके अधिक सेवन से बचना चाहिए, क्योंकि यह रक्तचाप को कम कर सकता है।

5- बदिया :-
आप इसे पानी में उबालकर पी सकते हैं। आप चाय भी पी सकते हैं, लेकिन थोड़ा जोड़ सकते हैं, क्योंकि यह मसालेदार है। इसका उपयोग रिसोट्टो और ग्रेवी वाली सब्जियों में किया जा सकता है। इससे ब्लड प्रेशर सही रहता है। भूलने की बीमारी से छुटकारा दिलाता है।

6- जायफल :-
इसका उपयोग मीठी चीजों में किया जा सकता है। जैसे हम गर्मियों में इलायची खाते हैं, वैसे ही हमें ठंडे मौसम में जायफल खाना चाहिए। यह शरीर को गर्मी देता है। इसके पाउडर को दूध और चाय में डुबोकर पिया जा सकता है। यह प्रजनन क्षमता में सुधार करता है और दिल की समस्याओं का कारण नहीं बनता है। हड्डियां मजबूत हो जाती हैं। कोई बुरा सांस नहीं। लेकिन ओवरईटिंग से बचना चाहिए, क्योंकि इससे डायरिया हो सकता है।

प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने के लिए आयुर्वेदिक आइटम कितने प्रभावी हैं?
आयुष मंत्रालय ने यह भी कहा है कि जुकाम को रोकने और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए बहुत काम किया जाना है। मंत्रालय के अनुसार, दिन में गर्म पानी पिएं। हर दिन कम से कम 30 मिनट योग करें। प्राणायाम और ध्यान करें। एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर पिएं। खाने में हल्दी, जीरा और धनिया जैसे मसालों का इस्तेमाल करें। आप तुलसी, दालचीनी, काली मिर्च, अदरक और किशमिश का काढ़ा भी पी सकते हैं

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.