स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के लिए मोदी सरकार की तरफ से आया एक बड़ा फैसला…मिलेगा फायदा

Advertisement

1,323

क्या आपको पता है कि मोदी सरकार ने केंद्र में दोबारा आने के बाद कई बड़े और कड़े फैसले लिए हैं, जिनका जनसामान्य पर काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। ऐसा ही एक फैसला मोदी सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय की तरफ से लिया गया है। इस फैसले में स्कूली बच्चों को काफी फायदा होने वाला है। चलिए बताते हैं इस फैसले की खास बातें।

दसवीं पास लोगों के लिए इस विभाग में मिल रही है बम्पर रेलवे नौकरियां
दिल्ली के इस बड़े हॉस्पिटल में निकली है जूनियर असिस्टेंट के पदों पर नौकरियां – अभी देखें
ITI, 8th, 10th युवाओं के लिये सुनहरा अवसर नवल शिप रिपेयर भर्तियाँ, जल्दी करें अभी देखें जानकारी 
ग्राहक डाक सेवा नौकरियां 2019: 10 वीं पास 3650 जीडीएस पदों के लिए करें ऑनलाइन
loading...

A big decision by the Modi government for the children studying in school ... will be benefited

मोदी जी ने स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के पेट में कृमि होने के कारण उन्हें काफी समस्याएं होती थी। जिसका सीधा असर उनके शारीरिक विकास पर पड़ता था। कृमि नियंत्रण के लिए स्कूलों में कई तरह के कार्यक्रम चलाए जाते थे जिनमें बच्चों को कृमि नियंत्रण की दवाइयां खिलाई जाती थी, लेकिन यह कार्यक्रम ज्यादा प्रभावी ढंग से लागू नहीं था।

सभी मनोरंजक, हेल्थ, क्रिकेट, जॉब्स और अन्य ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे एंड्राइड ऐप- Download Now

Modi Sarkar

सरकार ने अब कृमि नियंत्रण दिवस को सख्ती से लागू करने के आदेश दे दिए है। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से सभी स्कूलों और स्वास्थ्य यूनिटों में सख्त निर्देश जारी कर दिए गए हैं और साल में एक बार इस कार्यक्रम को सख्ती से और प्रभावी ढंग से चलाया जाएगा।

मोदी जी ने हर साल की 10 फरवरी को कृमि नियंत्रण दिवस मनाया जाता है, जो पहले कुछ ज्यादा प्रभावी ढंग से लागू नहीं था। अब हर बच्चे का स्वास्थ्य जांच के साथ कृमि नियंत्रण के लिए दवाइयां भी 10 फरवरी को दी जाएंगी और इसका स्वास्थ्य मंत्रालय सीधे तौर पर नियंत्रण करेगा। इस बात का भी ध्यान रखा जाएगा कि कोई भी बच्चा इस कार्यक्रम से ना छूट पाए।

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Comments are closed.