मंकीपॉक्स ने 58 देशों में फैलाया अलार्म WHN . द्वारा घोषित महामारी

168

नई दिल्ली: पिछले दो साल से दुनिया कोरोना महामारी की चपेट में है. एक बार फिर कोरोना के बढ़ते मामलों ने लोगों की चिंता बढ़ा दी है. कोरोना महामारी का खतरा अभी टला नहीं था और दुनिया भर में एक और महामारी दस्तक दे रही थी। पिछले कुछ महीनों में, दुनिया के विभिन्न हिस्सों में मंकीपॉक्स के मामले सामने आए हैं। अब वर्ल्ड हेल्थ नेटवर्क (WHN) ने मंकीपॉक्स को महामारी घोषित कर दिया है।

WHN ने मंकीपॉक्स की घोषणा की

विश्व स्वास्थ्य नेटवर्क का कहना है कि मंकीपॉक्स को महामारी घोषित करने का एकमात्र उद्देश्य इसके व्यापक नुकसान को रोकना है। WHN का कहना है कि दुनिया भर के देशों को मंकीपॉक्स के खिलाफ ठोस कार्रवाई करने की जरूरत है। अधिकारियों ने कहा कि एक संक्रमण को महामारी घोषित किया जाता है जब यह व्यापक क्षेत्र में फैलता है और आम जनता को प्रभावित करता है।

WHN ने एक बयान में कहा कि 58 देशों में अब तक मंकीपॉक्स के 3,417 मामलों की पुष्टि हो चुकी है और यह महामारी कई महाद्वीपों में तेजी से फैल रही है। मंकीपॉक्स पर WHN का बयान विश्व स्वास्थ्य संगठन की बैठक से पहले आया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंकीपॉक्स को वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित करने के विचार से बैठक बुलाई है।

विश्व स्वास्थ्य नेटवर्क ने विश्व स्वास्थ्य संगठन से मंकीपॉक्स के खिलाफ वैश्विक कार्रवाई करने का आह्वान किया है। अधिकारियों का कहना है कि मंकीपॉक्स के महामारी में बदलने का इंतजार करने का कोई मतलब नहीं है। अब इसके खिलाफ कार्रवाई करने का सबसे अच्छा समय है।

आपको बता दें कि मंकीपॉक्स वायरस धीरे-धीरे कई महाद्वीपों में फैल गया है। विश्व स्वास्थ्य नेटवर्क के आंकड़े बताते हैं कि जिस गति से यह विभिन्न देशों में फैल रहा है, अगर इसे रोकने के लिए अभी ठोस कदम नहीं उठाए गए तो यह पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लेगा। इसे ध्यान में रखते हुए WHN ने इसे महामारी घोषित कर दिया है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.