बेल के फल के सेवन का सेवन करने से होते हैं यह 12 फायदे

1,767
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
स्वास्थ्य:- बेल एक ऐसा पेड़ है जिसका फल, पत्ते, शाखा, छाल और जड़ सभी औषधीय रूप में उपयोग किया जाता है। इसमें कई सारे पोषक तत्व जैसे कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, फाइबर, फास्फोरस, प्रोटीन और विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन बी तथा एंटीऑक्सीडेंट्स आदि पाए जाते है। जिस वजह से बेल फल का सेवन आपके स्वास्थ्य को बहुत लाभ पहुँचाता है। बेल के फल के सेवन से कब्ज, अपच, गैस की समस्या, पेट के अल्सर, बवासीर, दमा, कृमि नाशक और लू आदि से बचाने वाला है।

1. यूरीन प्रॉब्लम

urine problem, kidney failure, stone, how rid kidney, how to save kidney, lifestyle, health

यूरीन प्रॉब्लम होने पर या पेशाब में जलन होने पर ताजे बेल के गूदे में थोड़ा दूध और चीनी मिलाकर सेवन करने से यूरीन से जुड़ी समस्याएं दूर हो जाती है।

2. पेचिश

पके हुए बेल का शरबत या बेल का मुरब्बा रोजाना सेवन करे। इससे पेचिश में आराम मिलता है।

3. सिर दर्द

बेल के रस में एक कपड़े की पट्टी को भिगोकर सर पर रखने से सिर दर्द में फायदा मिलता है।

4. शारीरिक कमजोरी

Eat a week, a bowl of black grapes, these diseases will end up with root and they will be in the body.

सूखे व पके हुए बेल के गूदे के चूर्ण का थोड़ी थोड़ी मात्रा में रोजाना सेवन करने शारीरिक कमजोरी दूर होती है।

5. कब्ज व अपच

बेल में फाइबर भरपूर मात्रा होता है इसीलिए बेल के सेवन से आप कब्ज, अपच व बदहजमी से बचे रहते हैं। इसीलिए रोज बेल का शरबत पिएं।

6. मसूड़ों में सूजन

इसमें मौजूद विटामिन सी के कारण से यह मसूड़ों की सूजन कम करने में सहायक है। अतः मसूड़ों में सूजन होने पर 25 ग्राम बेल के शरबत में 25 ग्राम दूध मिलाकर पिएं।

7. लू से बचाए

गर्मियों में लू से बचने के लिए नियमित बेल का शरबत अवश्य पिएं।

8. सफेद दाग

White Patch in Body

कभी कभी किसी की त्वचा के ऊपर सफेद धब्बे या दाग नजर आते हैं जो व्यक्ति की सुंदरता को भी फीका कर देते है। बेल का गूदा खाएं या बेल का शरबत सफेद दाग की समस्या का इलाज है। इसमें सोरलिन नामक तत्व पाया जाता है जो त्वचा पर पड़ने वाले सफेद दाग से बचाता है।

9. हैजा

बारिश के मौसम हैजा जैसी कई बीमारियां होने की संभावना रहती है। इस रोग से राहत पाने के लिए बेल का सेवन करें, क्योंकि बेल में मौजूद टैनिन नामक तत्व में एंटी बैक्टीरियल गुण होते है जो हैजा के बैक्टीरिया से लड़कर उत्तम स्वास्थ्य प्रदान करते हैं। इसके अलावा बेल का गूदा, सोंठ व जायफल को बराबर मात्रा में लेकर 2 गिलास पानी में अच्छे से पकाकर सेवन करें। यह हैजा रोग में फायदा करता है।

10. रोग प्रतिरोधक क्षमता

बेल में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में रहता है जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर शरीर को रोगों से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है।

11. लीवर

get rid of fatty liver

बेल में बीटाकैरोटीन, थायमिन, प्रोटीन और राइबोफ्लेविन अधिक मात्रा में पाया जाता है जिससे कारण से बेल के गूदे या बेल के शरबत का सेवन लीवर को स्वस्थ बनाता है।

12. रक्त शोधन

रोजाना बेल का शरबत पीने से खून साफ होता है, जिससे आप स्वस्थ्य बने रहते हैं।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads

Comments are closed.