centered image />

बुधवार के दिन शनिदेव को इन 5 चीजों को भेंट करने से बदल जाता है भाग्य

0 5
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

Jyotish :- शनिवार का दिन शनिदेव की पूजा के लिए श्रेष्ठ माना जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनिदेव को न्याय का देवता कहा जाता है क्योंकि ये लोगों के कर्म के आधार पर फल देते हैं। अगर किसी की कुंडली में शनि दोष है तो वे कुछ उपाय करके इस दोष को दूर कर सकते हैं।

आज हम आपको बताएंगे उस पांच चीज के बारे में जो शनिदेव को प्रिय है। माना जाता है कि शनिवार को शनिदेव को इन चीजों को भेंट करने से भाग्य बदल जाता है। आइये जानते हैं शनिदेव की 5 सबसे प्रिय चीजों के बारे में…

लोहे का छल्ला

अगर आपको शनि के कारण शारीरिक पीड़ा या दुर्घटनाओं के योग बन रहे हैं तो शनिवार को लोहे का छल्ला सरसों तेल में थोड़ी देर रख दें। इसके बाद साफ जल से धोकर दाहिने हाथ की मध्यमा अंगुली में धारण करें। इसका धारण करना बेहद शुभ माना जाता है।

सरसों का तेल

अगर शनिदेव के कारण चीजें रुक गई है और जीवन में कोई सफलता नहीं मिल पा रही है तो सरसों के तेल का विशेष प्रयोग करना चाहिए। कहा जाता है कि शनि के लिए सरसों के तेल का दान करना और प्रयोग करना काफी अनुकूल परिणाम देता है।

शनिवार को सुबह लोहे के बर्तन में सरसों का तेल लें और उसमे एक रुपये का सिक्का डाल दें। इसके बाद तेल में अपना चेहरा देखकर किसी निर्धन व्यक्ति को दान कर दें या पीपल के नीचे रख दें।

शनिवार को शनिदेव की कृपा पाने के लिए पीपल के नीचो सरसों तेल का दीपक जलाना भी अत्यंत शुभ माना जाता है।

काली उरद की दाल और काला तिल

अगर आप धन की समस्याओं से जूझ रहे हैं तो काली उरद की दाल या काले तिल का प्रयोग करें। शनिवार को सायं काल सवा किलो काली उरद की दाल या काला तिल किसी निर्धन व्यक्ति को दान करें। ये काम आपको कम से कम पांच शनिवार करना होगा। ध्यान रखें कि शनिवार को काली दाल या काला तिल खुद ना खाएं।

लोहे के बर्तन जैसा तवा, कराही, चिमटा

अगर शनिदेव दुर्घटनाकारक हैं तो खाना बनाने के लोहे के बर्तनों का दान करें। शनिवार को शाम को किसी निर्धन व्यक्ति को तवा, कराही या लोहे के बर्तन दान करने से दुर्घटना के योग टल जाते हैं।

काले कपड़े और काले जूते

अगर स्वास्थ्य की गंभीर समस्या है तो शनिवार को शाम को किसी निर्धन व्यक्ति को काले कपड़े और काले जूतों का दान करें। ऐसा करने से स्वास्थ्य धीरे-धीरे ठीक होने लगेगा।

घोड़े की नाल

घोड़े की नाल का शनि के लिए अत्यंत महत्व होता है। शुक्रवार को घोड़े की नाल ले आएं और सरसों के तेल से धोकर शुद्ध कर लें। इसके बाद शनिवार को शाम को घर के मुख्य द्वार पर ‘U’ के आकार की तरह लगा दें। ऐसा करने से घर के सभी लोगों पर शनिदेव की कृपा रहेगी और घर में कलह क्लेश नहीं रहेगा। ध्यान रखें कि बिना इस्तेमाल की गई घोड़े की नाल कोई प्रभाव पैदा नहीं करती है।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.