ये लेकर आये थे पाकिस्तान से 1947 में लाशों से भरी ट्रैन, जानें नाम

1,696

15 अगस्त को अंग्रेजी हुकूमत से 200 साल की गुलामी के बाद अनगिनत बलिदानों के बाद आज़ादी मिली। उसके साथ साथ भारत के 2 टुकड़े हो गए एक भारत और एक पाकिस्तान कहने को ये एक बहुत ही गलत हुआ भारत जैसे एक संपूर्ण देश के दुकड़े हो गए। और इस से भी गलत तो तब हुआ जब, आज़ादी के लिए एक साथ लड़े भाई भाई रहे न जाने क्या उनके मन मे आया और एक दूसरे के ही खून के प्यासे हो गए। जो एक साथ खाते थे पीते थे एक दूसरे के लिए खून तक बहा देते थे आज वो खुद आपस मे ही खून के प्यासे हो गए।

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

loading...

ऐसी ही एक घटना हुई जब बटवारे के बाद बहुत से भारत से पाकिस्तान गए और बहुत से भारत आये। एक शख्स जो रेलवे से रिटायर हुए चीफ कंट्रोलर बाल कृष्ण गुप्ता ने बताया कि दोनों देशों का जब बंटवारा हुआ था उस समय वो रेलवे में गार्ड थे। वही पाकिस्तान से इसी रेलमार्ग से लाशों से भरी ट्रेन हुसैनीवाला रेलवे स्टेशन से होती हुई फिरोजपुर के छावनी रेलवे स्टेशन पहुँचे थे।

This person RUN train from pakistan to india in 1947 filled with dead bodies

उन्होंने बताया कि रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने आदेश दिया था कि पाकिस्तान के गंडा सिंह रेलवे स्टेशन पर भारतीय लोग फिरोजपुर आने का इंतजार कर रहे हैं। यह कहते हुए उन्हें ट्रेन लेकर पाकिस्तान भेजा गया, जब ट्रेन से भारतीयों को लेकर हुसैनीवाला रेलवे स्टेशन के लिए रवाना हुए तो रास्ते में पाकिस्तान के कुछ दंगाई लोगों ने उनपर हमला बोल दिया और ट्रेन में कई लोगों को तेजधार हथियारों से काट दिया गया।

This person RUN train from pakistan to india in 1947 filled with dead bodies

ट्रेन खून से लथपथ थी। किसी तरह कुछ लोगों को बचाकर फिरोजपुर छावनी पहुँचे थे। वो मंज़र बहुत दर्दनाक था।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.