दांतों को ब्रश न करने से हो सकती है दिल की समस्याएं…

223

शरीर के समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए मौखिक स्वच्छता पर ध्यान देना महत्वपूर्ण माना जाता है। मुंह, दांत, मसूड़े और जीभ के साथ-साथ शरीर के अन्य हिस्सों को स्वस्थ रखने की आदत आपको हृदय और मानसिक विकारों (मौखिक स्वास्थ्य) के खतरे से बचाती है। शोध से पता चला है कि जो लोग नियमित रूप से ब्रश नहीं करते हैं उनके दांतों में सड़न और मसूड़ों की समस्या होने का खतरा बढ़ जाता है। यह हृदय रोग और मनोभ्रंश (अस्वच्छ दांत जोखिम) जैसी मानसिक बीमारियों के जोखिम को भी बढ़ा सकता है।

मुंह को साफ न रखने पर कई तरह के बैक्टीरिया पनप सकते हैं। इसीलिए नियमित रूप से मौखिक स्वच्छता का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है (अस्वच्छ दांत जोखिम)। डॉक्टर की सलाह हमेशा सुबह-शाम ब्रश करने और कुछ खाने के बाद अच्छी तरह से धोने की सलाह दी जाती है। आइए इस बारे में अधिक जानें कि कैसे मौखिक स्वच्छता हृदय और मन विकारों का कारण बन सकती है (आइए जानें कि कैसे मौखिक स्वच्छता हृदय और मन विकारों का कारण बन सकती है)।

अपने दांतों को साफ करना क्यों जरूरी है:

मुंह लगातार लार पैदा करता है, जिससे कई तरह के बैक्टीरिया के पनपने के लिए अनुकूल माहौल बनता है। उचित मौखिक स्वच्छता से बैक्टीरिया का तेजी से विकास हो सकता है और कई मौखिक संक्रमणों का खतरा हो सकता है। खाने के बाद कुछ खाना दांतों और मसूढ़ों में फंस जाता है अगर उन्हें ठीक से साफ न किया जाए तो दांतों में सड़न और मसूड़े की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है।

गंभीर मामलों में, दांत निकालने की आवश्यकता हो सकती है। इसलिए जरूरी है कि आप नियमित रूप से अपने मुंह की सफाई करें। आइए जानें कि यह किस तरह की गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है।

डिमेंशिया का खतरा –

कई अध्ययनों से पता चला है कि जो लोग अपने दांतों को अच्छी तरह से ब्रश नहीं करते हैं, उन्हें दांतों की सड़न और मसूड़ों की बीमारी के साथ-साथ अवसाद का भी खतरा हो सकता है।

शोधकर्ताओं ने पाया है कि डिमेंशिया वाले लोगों में दांतों की सड़न एक आम समस्या है। न्यूरोलॉजी एंड न्यूरोसाइंस की रिपोर्ट में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक दांतों की सड़न से कुछ लोगों में डिमेंशिया का खतरा बढ़ सकता है। दंत समस्याओं जैसे कि पीरियोडोंटाइटिस और मस्तिष्क की सूजन के बीच एक संभावित लिंक मनोभ्रंश के जोखिम को बढ़ाने के लिए पाया गया है।

हृदय रोग का खतरा:

एक अन्य अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि मौखिक स्वच्छता, विशेष रूप से दंत स्वच्छता पर ध्यान देने की आदत, हृदय रोग के जोखिम को बढ़ा सकती है।
यूरोपियन जर्नल ऑफ प्रिवेंटिव कार्डियोलॉजी में प्रकाशित एक संबंधित अध्ययन में वैज्ञानिकों ने पाया कि
यही है, जो लोग दिन में कम से कम तीन बार अपने दाँत ब्रश करते हैं, उनमें गंभीर और जीवन-धमकी देने वाली समस्याएं विकसित होने का जोखिम कम होता है, जैसे कि एट्रियल फाइब्रिलेशन और दिल की विफलता।
अध्ययनों से यह भी पता चला है कि जिन लोगों के अतिरिक्त दांत होते हैं उनके दांत अधिक होते हैं
उन्हें आलिंद फिब्रिलेशन और अन्य हृदय रोगों का अधिक खतरा हो सकता है।

अपने दांतों को नियमित रूप से ब्रश करें:

दांतों और मुंह की नियमित सफाई का ध्यान रखना बहुत जरूरी है, यह आपके संपूर्ण स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है,
ऐसा शोधकर्ताओं का कहना है। यदि आप एक बार में अपने दाँत ब्रश करना भूल जाते हैं, तो घबराएँ नहीं।
लेकिन याद रखें कि दिन में कम से कम दो बार ब्रश जरूर करें। बाजार में कई तरह के केमिकल माउथवॉश उपलब्ध हैं,
इनके ज्यादा इस्तेमाल से दांतों में सड़न भी हो सकती है। गुनगुने पानी में नमक मिलाना सबसे ज्यादा फायदेमंद माना जाता है।

(अस्वीकरण : हम इस लेख में निर्धारित किसी भी कानून, प्रक्रिया और दावों का समर्थन नहीं करते हैं।
उन्हें केवल सलाह के रूप में लिया जाना चाहिए। ऐसे किसी भी उपचार/दवा/आहार को लागू करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।)

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.