गुजरात के गर्ल्स कॉलेज में हुई लड़कियों के साथ शर्मनाक घटना..उतारे गए उनके कपडे

0 881

गुजरात : एक गर्ल्स कॉलेज में हुई घटना ने देश के प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के गृह राज्य गुजरात को ही नहीं, पूरे देश को शर्मिंदा किया है। जानकारी के मुताबिक गुजरात के कच्छ जिलान्तर्गत भुज शहर के एक प्रायवेट गर्ल्स कॉलेज में कपड़े उतरवाकर पीरियड्स की जांच करने का मामला सामने आया है।

इसे लेकर छात्राओं के साथ – साथ उनके परिजनों के अलावा पूरे शहर में रोष फैल गया है। मामले के तूल पकड़ने पर कॉलेज के ट्रस्टी और संचालकों द्वारा माफी मांगकर मामले को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। दूसरी तरफ छात्राऐं कानूनी कार्रवाई की मांग पर अड़ी हुई हैं।

सरकारी जॉब्स की लेटेस्ट जानकारी यहाँ हैं

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक मामला सहजानंद गर्ल्स कॉलेज का है। छात्राओं के मुताबिक, मंगलवार को कॉलेज आते ही उनको ग्राउंड में खड़े रहने के लिए कहा गया। बाद में एक-एक कर छात्रा को वॉशरूम ले गए और जांच किया कि वह पीरियड्स में है या नहीं।

छात्राओं का आरोप है कि, पिछले काफी समय से पीरियड्स को लेकर प्रिंसिपल समेत के स्टाफ द्वारा मौखिक रुप से प्रताड़ित किया जा रहा था। लेकिन मंगलवार को कपड़े उतारकर की गई इस जांच से उनके आत्मसम्मान को ठेस पहुंची है।

वॉशरूम में ले जाकर जबरदस्ती उनके कपड़े उतारकर पीरियड्स की जांच की गई। इससे छात्राएं हैरान हो गईं। लेकिन

पीड़ित छात्राओं ने त्काल मोबाइल से अपने पेरेंट्स को बुलाया और अपने साथ हुई इस ज्यादती के बारे में जानकारी दी है। जिसके चलते बड़ी संख्या में पेरेंट्स यहां पहुंच गए थे। ट्रस्टियों द्वारा उनको समझाने का प्रयास किया गया।

दूसरी तरफ कॉलेज सूत्रों का कहना है कि, यहां छात्राओं की सुविधा के लिए सेनेटरी पैड डैमेज करने की एक मशीन रखी गई थी। जिसका उपयोग करने के बजाय छात्राएं इधर-उधर फेंक देती थी।

इसी कारण कॉलेज प्रशासन द्वारा छात्राओं का चेकिंग करने का निर्णय ले लिया गया था। हालांकि, कपड़े उतरवाकर की गई इस चेकिंग को लेकर विवाद होने पर संचालकों द्वारा माफी मांगी गई है।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply