संक्रमण के कारण गले में खराश? इन टिप्स को फॉलो करेंगे तो मिलेगी राहत

0 238
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

Health Tips: नाक और मुंह में संक्रमण का खतरा रहता है। इसमें कई चीजों का योगदान होता है। अक्सर वातावरण में बदलाव या ठंडा खाना खाने से गले में खराश हो जाती है।

ठंडा खाना खाने से गले के नाजुक हिस्से में बैक्टीरिया का संक्रमण हो जाता है। अगर आप भी गले में खराश से परेशान हैं, तो कुछ टिप्स हैं जो आपको राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं।

गले में संक्रमण होने का खतरा किसे अधिक होता है?

गले में संक्रमण बैक्टीरिया या वायरस के कारण हो सकता है। वैसे तो किसी भी उम्र के लोग गले के संक्रमण की शिकायत कर सकते हैं, लेकिन यह समस्या बच्चों में ज्यादा होती है। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले बच्चों को गले में संक्रमण आसानी से हो सकता है।

गले में संक्रमण के लक्षण

– गले में खराश और दर्द
– खाना निगलने में दिक्कत होना
– टॉन्सिल में सूजन और दर्द
– टांसिल पर सफेद परत चढ़ना
– लाल गला
– आवाज में बदलाव और स्वर बैठना
– सूखा गला
– जीभ पर लाल चकत्ते पड़ना
-बुखार और खांसी
– सिरदर्द

गले में संक्रमण के कारण

– जुकाम और वायरल इंफेक्शन से गले में इंफेक्शन हो सकता है। इससे गले में खराश, दर्द, सूजन और बुखार हो सकता है।
– बैक्टीरियल इंफेक्शन से भी गले में इंफेक्शन हो सकता है। इससे गले में खराश और गले और टॉन्सिल का संक्रमण हो सकता है।
– एलर्जी से भी गले में संक्रमण हो सकता है। एलर्जी प्रदूषण, पालतू जानवरों, कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली या अन्य कारकों के कारण हो सकती है।
– गले में चोट लगने से व्यक्ति के वोकल कॉर्ड और मांसपेशियों पर दबाव पड़ता है, इसलिए गले में खराश की शिकायत होती है। लंबे समय तक गले में खराश रहने से संक्रमण हो सकता है।

गले के संक्रमण से बचाव

– अगर आपके गले में खराश या अन्य लक्षण हैं तो लोगों से शारीरिक दूरी बनाकर रखें।
– साफ-सफाई का ध्यान रखें। खाना खाने से पहले और बाद में अच्छी तरह हाथ धोएं।
– खांसते या छींकते समय मुंह पर रुमाल रखें।
– सिगरेट या शराब का सेवन न करें। धूम्रपान गले के संक्रमण को बदतर बना सकता है।
– जहां वायु प्रदूषण या गंदगी होती है वहां गले में संक्रमण का खतरा रहता है। गंदी जगहों पर जाने से बचें।
– खूब पानी पिएं लेकिन ठंडा पानी न पिएं।

गले के संक्रमण का इलाज

– अगर आपको गले में संक्रमण है, तो आपका डॉक्टर आपको एंटीबायोटिक्स दे सकता है। कोई भी दवा डॉक्टर की सलाह के बाद ही लें।
– गंभीर मामलों में गले के संक्रमण के इलाज के लिए एक सर्जरी भी होती है, जिसमें टॉन्सिल को हटा दिया जाता है।
– गले के इंफेक्शन के लिए कई घरेलू नुस्खे फायदेमंद हो सकते हैं। इसमें रोगी नमक, लहसुन, सेब का सिरका, शहद, दूध और हल्दी, अदरक, भाप और शराब आदि का प्रयोग करता है।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.