क्या देवता भी शनिदेव के प्रकोप से नहीं बच पाते

80

शनिदेव न्याय के देवता हैं और कलियुग में शनिदेव को दंडाधिकारी कहा जाता है। सही काम करने वालों पर शनिदेव मेहरबान रहते हैं और गलत काम करने वालों को शनिदेव कभी माफ नहीं करते। अमीर हो या गरीब, गलत काम करने वाले लोगों को शनिदेव कभी नहीं छोड़ते। गलत काम करने वाले जातकों पर शनिदेव अपनी दशा, अंर्तदशा, साढ़ेसाती और ढैया के दौरान अशुभ फल प्रदान करते हैं। शास्त्रों में कहा गया है कि इंसान तो क्या देवता भी शनिदेव के प्रकोप से नहीं बच पाते।

चलिए जानते हैं कि ऐसे कौन लोग हैं जो शनिदेव की क्रूर दृष्टि का शिकार बनते हैं और उन्हें शनिदेव दंड देते हैं।

दूसरों के साथ धोखा करने वाला

जो लोग स्वार्थवश या बिना किसी लाभ के भी दूसरों से झूठ बोलते हैं, शनिदेव उन्हें दंडित करते हैं।

परनिन्दा करने वाला
पीठ पीछे दूसरों की बुराई करने वाले को भी शनिदेव काम के अनुसार दंड देते हैं। ये आर्थिक नुकसान, पारिवारिक कलह या बीमारी हो सकता है।
झूठ बोलने वाला
झूठ बोलने वालों पर भी शनिदेव क्रोधित रहते हैं। ऐसे लोग चाह कर भी उन्नति नहीं कर पाते।
गलत आदतों को ना छोड़ने वाला
गलत आदतों जैसे चोरी डकैती, मदिरा पीना, परस्त्री गमन इत्यादि करने वालों पर भी शनिदेव का क्रोध रहता है। शनिदेव ऐसे लोगों को हमेशा बीमार और कंगाल रखते हैं।
गरीब और कमजोर को सताने वाला
शनिदेव न्याय के देवता हैं। गरीब और कमजोर लोगों के हित में खड़े हैं। ऐसे में कमजोरों को सताने वाला और गरीब को परेशान करने वाले को शनिदेव कभी माफ नहीं करते। ऐसे लोग इसी जीवन में शनिदेव की टेढ़ी नजर के शिकार बने रहते हैं।
मेहनत न करने वाला
शनिदेव कर्म प्रधान देवता है। जो लोग काम से जी चुराते हैं, काम न करने के बहाने खोजते हैं औऱ आलस्य दिखाते हैं, ऐसे लोगों के लिए शनिदेव कभी शुभ फल प्रदान नहीं करते। शनिदेव ऐसे कामचोर लोगों पर तिरछी नजर रखते हैं जिससे इनके जीवन में कंगाली, आर्थिक विपन्नता बनी रहती है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.