तो जल जाने के बाद अस्थियों का क्या करते है यह गाँव वाले

54

भारत में जहाँ एक तरह देवी-देवताओं पर अटूट विश्वास के नाम पर अंधविश्वास को पाला जाता हैं. वहीं एक ऐसा भी गाँव हैं, जहाँ पर लोगो के मरने के बाद उनकी अस्थियों को गंगा या किसी भी नदी में नहीं बहाया जाता हैं, बल्कि उससे जो किया जाता हैं वो सुनकर चौंक जायेंगे आप. Also See: Want to Free Paytm Cash  go this link :  http://quizoffers.online/

हम बार कर रहें हैं,राजस्थान के चूरू जिले के तारानगर तहसील के गांव ‘लांबा की ढाणी की.

यह अपने आप में एक अनूठा गांव है जहां के लोग किसी धार्मिक कर्मकांड में आस्था नहीं रखते हैं. इस गांव में कोई मंदिर नहीं है ना ही यहां मृतकों की अस्थियों को नदी में प्रवाहित किया जाता हैं. बल्कि इन बची हुई अस्थियों को गाँव वाले दुबारा जला कर राख़ कर देते हैं.

यहाँ पर करीब 105 घर हैं जिसमे से 91 घर जाटों के, 4 घर नायकों 10 घर मेघवालों के हैं. यहाँ के लोगों का मानना हैं कि वह धर्मकाण्ड के चोचलों में फंसने से बेहतर अपनी मेहनत कर्म पर ध्यान देना जरूरी समझते हैं. इस समूचे गाओं में एक भी मंदिर नहीं ना ही यहाँ के लोग नास्तिक हैं.

Advertisement

बस यहाँ के लोग पूजा-पाठ से ज्यादा मेहनत को महत्त्व देते हैं. अपनी लगन मेहनत के बाल पर यहां के 30 लोग पुलिस में, 30 लोग सेना में, 17 लोग रेलवे में लगभग 30 लोग चिकित्सा क्षेत्र में गांव का नाम रोशन करने के साथ ही गाँव के पांच युवकों ने खेलों में राष्ट्रीय स्तर पर पदक तक प्राप्त किए हैं.

Also Read :- सवालों के जबाब देकर जीते  Paytm Cash 

बिना किसी साइड-इफैक्ट के नैचुरल तरीके से बालों को करें स्ट्रेट | Straighten your hair Naturally

ताज़ा ख़बरें मोबाइल में पाने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Advertisement

loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.