कर्नाटक चुनाव 2018 भाजपा ने लहराया जीत का परचम और राहुल गाँधी कोमा में!

0 49

कर्नाटक चुनाव में नतीजे सामने आ चुके हैं। एक बार फिर पीएम मोदी की अगुवाई में भारतीय जनता पार्टी ने कर्नाटक में भगवा लहरा दिया है। पीएम मोदी की ताबड़तोड़ 21 रैलियों और कर्नाटक के लोगों के बीच थोड़ी बहुत कन्नड़ बोलने का प्रभाव इस चुनाव में साफ दिख गया। 224 सीटों के लिए हुए इस चुनाव में राहुल गांधी की कांग्रेस काफी पिछड़ गई जिससे राहुल गाँधी को बहुत बड़ा सदमा लगा है, पहले एग्जिट पोल में यह बताया जा रहा था की कांग्रेस की जगह मजबूत होगी लेकिन आने वाले रिजल्ट ने सबको चौंका दिया, यह स्तिथि उनके लिए एक कोमा जैसी हो गयी है, कि सिर्फ देख सकते हैं और कुछ कर नही सकते। आइए जानते हैं उन बड़ी वजहों को जो भाजपा की जीत और कांग्रेस की हार का कारण बन गई। शहरों के बुनियादी ढांचे में कमी से थी नाराजगी।

हजारों लोग कमा रहे हैं, आप भी कमा सकते हैं  http://www.winpaytm.com/winpaytmcash400/

कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार से कन्नड़ लोगों की सबसे बड़ी नाराजगी बुनियादी ढांचे में कमी की थी। बैंगलोर समेत दूसरे बड़े राज्यों में लोगों को बुनियादी सुविधायें नहीं मिल पा रही थीं। बैंगलोर का प्रबंधन हो, शहरों में नागरिक सुविधाएं हो या ट्रैफिक की समस्या, सबको लेकर लोग कांग्रेस से नाराज थे। इन्हीं मुद्दों पर चोट करने में भाजपा कामयाब रही और वोटरों ने उसका साथ दिया। इसके अलावा एक ग्रामीण राज्य में कांग्रेस ने किस तरह से किसानों की अनदेखी की है, गांवों के विकास की अनदेखी की है। इस बात को बताने में भाजपा पूरी तरह कामयाब रही।

karnataka-election-2018-why-won-bjp-and-why-the-congress-loss-the-election-in-karnataka

काम नहीं आया कांग्रेस का राष्ट्रवादी कार्ड

कांग्रेस ने भाजपा को चुनाव में हराने के लिए एक और बड़ी चाल चली थी। उसने राज्य की अस्मिता यानि पहचान का मुद्दा उठाया था। कांग्रेस ने भाजपा को ऐसी पार्टी के रूप में पेश किया था जो उत्तर भारत की है और कन्नड़ वासियों की पहचान छीन लेगी। कांग्रेस ने दिखाया था कि भाजपा उनपर न सिर्फ हिंदी थोपेगी बल्कि उत्तर भारत के रीति रिवाज भी मानने को मजबूर कर देगी। हालांकि मोदी ने जिस तरह से थोड़ी कन्नड़ बोली और उनके भाषणों को कन्नड़ में अनुवाद करके लोगों तक बताया गया, उसने कांग्रेस के इस कार्ड को धराशायी कर दिया।

राहुल और मोदी की लड़ाई में पिछड़े राहुल

karnataka-election-2018-why-won-bjp-and-why-the-congress-loss-the-election-in-karnataka

आखिरी दांव था राहुल और पीएम मोदी जिनमें कोई मुकाबला ही नहीं था। पीएम मोदी ने अपने जादुई भाषणों से राहुल गांधी को पछाड़कर वोटरों का भरोसा जीत लिया। मोदी का चुनाव के समय नेपाल के मंदिर में जाना भी हिन्दू वोटों के एक करने के लिए काफी रहा। हालांकि राहुल ने भी चुनाव से पहले मंदिरों के चक्कर लगाये लेकिन वो जनता को प्रभावित नहीं कर सके..

चेहरों की लड़ाई में पिछड़ गई कांग्रेस

karnataka-election-2018-why-won-bjp-and-why-the-congress-loss-the-election-in-karnataka

तीसरी सबसे बड़ी वजह रही कांग्रेस और भाजपा के बीच चेहरों की लड़ाई जिसमें भाजपा के हाथों जीत लग गई। कांग्रेस के पास सिद्धारमैया, राहुल गांधी और सोनिया गांधी थे। भाजपा के पास येदियुरप्पा, अमित शाह और पीएम मोदी थे। सिद्धारमैया और येदियुरप्पा का कद तो कर्नाटक में करीब-करीब बराबर था। बस सिद्धारमैया सत्ता विरोधी लहर का शिकार हो गये और येदियुरप्पा भारी पड़ गये। सोनिया और अमित शाह की टक्कर में अमित शाह ही विजयी रहे क्योंकि सोनिया की तबीयत की वजह से वो सक्रिय नहीं रहीं।

हो जाइये BJP की जीत में शामिल हजारों लोग कमा रहे हैं, आप भी कमा सकते हैं  दीजिये इन 4 आसान से सवालों के जवाब


विडियो जोन : भांग भी होती है फायदेमंद, 5 फायदे जानकर चौंक जायेंगे आप | Bhang ke benefits

बॉलीवुड की ताज़ा ख़बरें मोबाइल में पाने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

अमृता प्रकाश के बारे में आपकी क्या राय है? क्या वह छोटी थी तब ज्यादा क्यूट दिखती थी या अब ज्यादा सुंदर दिखती हैं?

loading...

loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.