Sabkuchgyan
Sabkuchgyan welcome to all knowledge, the purpose of this website is to give people the right information. We have made a lot of effort to get you the right material according to you so that people can get the proper benefit. The articles are taken from different sources.

Advertisement

इस आयुर्वेदिक दवाई से आप कैंसर को मात दे सकते हो

0 27

Healthcare कैंसर एक बीमारी है जिसका नाम सुनते ही लोगों के दिमाग में गलत भावना आ जाती है। लेकिन यह ऐसी भी बीमारी नहीं है कि जिसका इलाज न हो सके। आप जितना गलत सोचेंगे उतना ही आपको नुकसान उठाना पड़ेगा। क्योंकि अगर बीमारी को ठीक करना है तो आपको भी अपने मन में अच्छे विचार लाने होंगे अन्यथा आप इस बीमारी से उबर नहीं पायेंगे। दोस्तो यहां बताए जा रहे उपचार से आप कैंसर को जड़ से ठीक कर सकते हैं। हम आपको यहां 4 दवाईया बता रहें हैं जिसे आपको समयनुसार लेना है।

पहला दवाई में कैंसर के रोगी को नित्य कामों से निवृत्व होकर सुबह के 6 बजे 100 एमएल गौमूत्र में 5 ग्राम ताजा कूटी हुई हल्दी, 5 पपीते के बीज और 5 ग्राम पुनर्नवा मिला लें, इसे उबाल लें, एक उबाल आने के बाद, छान कर ठंडा कर लें फिर पीड़ित रोगी को धीरे-धीरे पिलायें एक सांस में नहीं पीना है। यह आपकी सुबह की पहली दवाई है। इस दवाई में आपको गौमूत्र ताजा ही लेना होगा। रेडीमेड बाजार में मिलने वाला अर्क मत लेना। मूत्र भी उसी गाय का लें जो गाय गर्भवती न हो और देसी नस्त्र की हो। इस दवा के लेने के आधे घंटे बाद आपको दूसरी दवा का प्रयोग करना है।

Ayurvedic Cancer Treatment medicine

- Advertisement -

दूसरी में दवाई में आपको 4 चम्मच शहद, 15 पत्ते श्यामा तुलसी, 4 पत्ते सदा बहार लाल फलू वाले और 5 ग्राम दाल चीनी, इन सभी को मिक्स करके चटनी बना लें और रोगी को खिला दें।

और तीसरी औषधि रोगी को खिलानी है चार घंटे बाद इस दवा को बनाने में जिन औषधियों की जरूरत होगी वह इस प्रकार है, पपीते के का आधा पत्ता, अजवाइन 5 ग्राम, नीम गिलोय के 5 पत्ते, गेंहू के ज्चार का रस 30 ग्राम उसके बाद 50 से 60 ग्राम ऐलोवेरा का गूदा। इस सब का जूस बनाकर छानकर और रोगी को धीरे-धीरे मात्रा में रोगी को दें।

चौथी औषधि रोगी को इसके ठीक आधे घंटे बाद इसे बनाने के लिए आपको 25 पत्ते शीशम के, 5 पत्ते पीपल, 3 पत्ते बेलपत्र, 4 गुडहल के पत्ते और 3 गुडहल के फूल, 4 लहसून की कली, 5 ग्राम अलसी, 5 ग्राम कंलोजी, 5 ग्राम काली मिर्च और 5 पत्ते हरिद्वार की तुलसी इस सब किसी भी जूस में जो रोगी को पसंद हो उसमें डालकर पिला दें।
इन सभी औषधि को हमने चार भागों के बांटा है। आपको ये दवाई दोपहर के 2 बजे से पहले पी लेना है। फिर ठीक 8 बजे के बाद पहले वाली प्रक्रिया दोहरानी है।

ऐसा करके देखिए आपका कैंसर जल्दी से ठीक होने लगेगा। अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे जरूर शेयर करें

लेटेस्ट न्यूज़, अपडेट को पाने के लिए हमारी यह APP DOWNLOAD करने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

 

loading...
loading...
Comments
Loading...